मंगलवार, 11 अप्रैल 2017

महिलाओं की कमजोरी दूर करने वाली घरेलू आयुर्वेदिक दवा

 
महिलाएं अपने फिगर को परफेक्ट बनाने के लिए वर्क आऊट या योगासन करती हैं। लेकिन श्वेत रक्त प्रदर, रक्त प्रदर , मासिक धर्म की अनियमितता, कमजोरी दुबलापन, सिरदर्द, कमरदर्द आदि। ये सभी बीमारियां ऐसी हैं जिनके कारण महिलाएं शरीर को स्वस्थ और सुडौल नहीं रहने देती हैं। इसलिए हम आपको बताने जा रहे हैं एक ऐसा आयुर्वेदिक नुस्खा जो महिलाओं की हर तरह की कमजोरी को दूर करता है।नुस्खा- 
स्वर्ण भस्म या वर्क 10 ग्राम, मोती पिष्टी 20 ग्राम, शुद्ध हिंगुल 30 ग्राम, सफेद मिर्च 40 ग्राम, शुद्ध खर्पर 80 ग्राम। गाय के दूध का मक्खन 25 ग्राम थोड़ा सा नींबू का रस पहले स्वर्ण भस्म या वर्क और हिंगुल को मिला कर एक जान कर लें। फिर शेष द्रव्य मिलाकर मक्खन के साथ घुटाई करें। फिर नींबु का रस कपड़े की चार तह करके छान लें और इसमें मिश्रण मिलाकर चिकनापन दूर होने तक घुटाई करनी चाहिए।आठ-दस दिन तक घुटाई करनी होगी। फिर उसकी एक-एक रत्ती की गोलियां बना लें।



सेवन की विधि- 
 1 या 2 गोली सुबह शाम एक चम्मच च्यवनप्राश के साथ सेवन करें। इस दवाई का सेवन करने से महिलाओं को प्रदर रोग, शारीरिक क्षीणता, और कमजोरी आदिसे मुक्ति मिलती है और शरीर स्वस्थ और सुडौल बनता है। यह दवाई ''स्वर्ण मालिनी'' वसंत के नाम से बाजार में भी मिलती है। इसके सेवन से शरीर बलशाली होता है। शरीर के सभी अंगों को ताकत मिलती है।
एक टिप्पणी भेजें