शनिवार, 8 मई 2010

कब्ज (कांस्टीपेशन) से मुक्ति पाने के सरल उपचार. How to fight constipation?

                                
                                                                    
    अनियमित खान-पान के चलते लोगों में कब्ज एक आम बीमारी की तरह प्रचलित है। यह पाचन तन्त्र का प्रमुख विकार है। कब्ज सिर्फ भूख ही कम नहीं करती बल्कि गेस ,एसिडिटी व् शरीर में होने वाली अन्य कई समस्याएं पैदा कर सकती है| बच्चों से लेकर वृद्ध तक इस रोग से पीड़ित रहते हैं|

मनुष्यों मे मल निष्कासन की फ़्रिक्वेन्सी अलग-अलग पाई जाती है। किसी को दिन में एक बार मल विसर्जन होता है तो किसी को दिन में २-३ बार होता है। कुछ लोग हफ़्ते में २ य ३ बार मल विसर्जन करते हैं। ज्यादा कठोर,गाढा और सूखा मल जिसको बाहर धकेलने के लिये जोर लगाना पडे यह कब्ज रोग का प्रमुख लक्षण है।ऐसा मल हफ़्ते में ३ से कम दफ़ा आता है और यह इस रोग का दूसरा लक्षण है। कब्ज रोगियों में पेट फ़ूलने की शिकायत भी साथ में देखने को मिलती है। यह रोग किसी व्यक्ति को किसी भी आयु में हो सकता है हो सकता है लेकिन महिलाओं और बुजुर्गों में कब्ज रोग की प्राधानता पाई जाती है।
मैं नीचे कुछ ऐसे कब्ज निवारक उपचारों का उल्लेख कर रहा हूं जिनके समुचित उपयोग से कब्ज का निवारण होता है और कब्ज से होने वाले रोगों से भी बचाव हो जाता है--
१) कब्ज का मूल कारण शरीर मे तरल की कमी होना है। पानी की कमी से आंतों में मल सूख जाता है और मल निष्कासन में जोर लगाना पडता है। अत: कब्ज से परेशान रोगी को दिन मे २४ घंटे मे मौसम के मुताबिक ३ से ५ लिटर पानी पीने की आदत डालना चाहिये। इससे कब्ज रोग निवारण मे बहुत मदद मिलती है।

२) भोजन में रेशे की मात्रा ज्यादा रखने से कब्ज निवारण होता है।हरी पत्तेदार सब्जियों और फ़लों में प्रचुर रेशा पाया जाता है। मेरा सुझाव है कि अपने भोजन मे करीब ७०० ग्राम हरी शाक या फ़ल या दोनो चीजे शामिल करें।
३) सूखा भोजन ना लें। अपने भोजन में तेल और घी की मात्रा का उचित स्तर बनाये रखें। चिकनाई वाले पदार्थ से दस्त साफ़ आती है।
४) पका हुआ बिल्व फ़ल कब्ज के लिये श्रेष्ठ औषधि है। इसे पानी में उबालें। फ़िर मसलकर रस निकालकर नित्य ७ दिन तक पियें। कज मिटेगी।


५) रात को सोते समय एक गिलास गरम दूध पियें। मल आंतों में चिपक रहा हो तो दूध में ३ -४ चम्मच केस्टर आईल (अरंडी तेल) मिलाकर पीना चाहिये। हमेशा कब्ज से पीड़ित लोगों के लिए बादाम का तेल बेहतर विकल्प है| इससे आंत की कार्य क्षमता बढ़ती है | रात को सोते वक्त गुन गुने दूध में बादाम का तेल ३ ग्राम मिलाकर सेवन करें|| तेल की मात्रा धीरे - धीरे बढ़ाक्र ६ ग्राम तक ले जाएँ| | ३०-४० दिन तक यह प्रयोग करने से वर्षों से चली आ रही कब्ज भी जड से खत्म हो जाती है|

६) इसबगोल की की भूसी कब्ज में परम हितकारी है। दूध या पानी के साथ २-३ चम्मच इसबगोल की भूसी रात को सोते वक्त लेना फ़ायदे मंद है। दस्त खुलासा होने लगता है।यह एक कुदरती रेशा है और आंतों की सक्रियता बढाता है।

७) नींबू कब्ज में गुण्कारी है। मामुली गरम जल में एक नींबू निचोडकर दिन में २-३बार पियें। जरूर लाभ होगा।

Translate

पाठक संख्या

Readers Traffic

मेरा परिचय

मेरी फ़ोटो

Dr..Dayaram Aalok,M.A.,Ayurved Ratna,D.I.Hom(London),poet-(kavitalok.blogspot.com,
Social activist-: (damodarjagat.blogspot.com),
Director: :All India Damodar Darji Mahasangh.Used to organize mass marriage functions for darji community every two years.
     डॉ.. दयाराम आलोक,एम.ए.,आयुर्वेद रत्न,D.I.Hom(London),  रुचियां-इन्टरनेट पर सामाजिक,स्वास्थ्य विषयक एवं कविता के  blog   लिखना | पत्र-पत्रिकाओं में लेख ,कविताएं लिखना। गरीब परिवारों की कन्याओं के लिये स्ववित्त पोषित नि:शुल्क सामूहिक  विवाह (mass marriage function) का आयोजन करना। संस्थापक एवं संचालक : अखिल भारतीय दामोदर दर्जी महासंघ.  mobile: 09926524852

विशिष्ट पोस्ट

किडनी फेल्योर(गुर्दे खराब) के फायदेमंद उपचार: How to deal with kidney failure

          किडनी फेल्योर क्या है -       शरीर मे किडनी का मुख्य कार्य शुद्धिकरण का होता है| लेकिन किडनी के किसी रोग की वजह से जब ...

Google+ Followers

मेरी ब्लॉग सूची

लोकप्रिय पोस्ट

लेबल

ब्लॉग आर्काइव

पेज

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Follow by Email

यह ब्लॉग खोजें