रविवार, 10 नवंबर 2013

पालक से करें पथरी,रक्ताल्पता ,थायराईड की चिकित्सा



पालक  खाएं रोग भगाएं- --



पालक एक पत्तेदार सब्जी है जो अपने स्वास्थ्यकारी  गुणों  के कारण  सारे भारत में उपयोग की जाती है|पालक में कई तरह के विटामिन्स के अलावा प्रोटीन.सोडियम,केल्सियम ,क्लोरीन और   रेशा पाया जाता है|इसमें पाया जाने वाला लोह तत्व और  रायबो फ्लेविन  चिकित्सीय दृष्टी  से महत्वपूर्ण  हैं|  अब हम पालक  से रोगोपचार  के बारे में बताएंगे --

दमा और श्वास रोग में--

   पालक के एक गिलास जूस में  चुटकी भर सेंधा नमक मिलाकर रोज सुबह और शाम  को सेवन  करने  दमा और श्वास रोग में हितकर  असर  होता है|

निम्न रक्त चाप में लाभकारी--

निम्न रक्त चाप रोगी को प्रतिदिन पालक की सब्जी खाने  से रक्त प्रवाह संतुलित करने में मदद मिलती है|

रक्ताल्पता में उपयोगी है--

रक्ताल्पता याने खून की कमी में पलक का उपयोग  बेहद लाभकारी है|  इसके सेवन से हेमोग्लोबिन में वृद्धि  होती है| एक गिलास जूस दिन में तीन बार लेना उचित है| इसमें श्रेष्ठ किस्म का लोह तत्व होता है जो एनीमिया  निवारण में सकारात्मक प्रभाव  डालता है|

थायरायड रोग में हितकर है--





एक गिलास पालक के जूस में एक चम्मच शहद और चौथाई चम्मच  जीरा  का पावडर  मिलाकर लेते रहने से  थायरायड रोग में लाभ होते देखा गया है| 

पथरी  निष्कासन में उपयोगी है-

पालक के पत्ते का रस और नारियल पानी सामान भाग मिलकर लेते रहने से  गुर्दे और मूत्र पथ की  पथरी   निकल जाती है|

पीलिया रोग ठीक होता है-

कच्चे पपीते  के साथ  पालक का रस  सेवन करना  पीलिया ठीक होने में सहायक है| छिलके वाली मूंग की दाल में पालक मिलाकर  सब्जी  बनाकर  रोगी को खिलाना चाहिए| 

दिल के रोग में--

ह्रदय रोगी एक गिलास पालक के जूस में २ चम्मच  शहद मिलाकर  पीते रहें| 

कब्ज मिटाता है पालक - 

       पालक का जूस दिन में  दो बार नियमित पीते रहने से कठिन से कठिन कब्ज का भी निवारण हो जाता है|

>

------------------------------------------------------------------

एक टिप्पणी भेजें