24/7/17

घबराहट दूर करने के प्राकृतिक उपाय/ Natural remedies to dispel nervousness


व्‍यस्‍त जीवनशैली और आगे बढ़ने की होड़ के कारण लोगों में एंग्जाइटी की समस्या तेजी से बढ़ रही है, सही समय पर इसका इलाज न होने पर यह धीरे-धीरे फोबिया में बदल जाता है, इसलिए इससे बचने के लिए आपको कुछ सुरक्षित और प्राकृतिक विकल्‍पों की जानकारी होनी चाहिए।
चिंता को हम पेनिक डिसऑर्डर के नाम से भी जानते हैं. व्यस्त जीवनशैली और आगे बढ़ने की होड़ के कारण लोगों में घबराहट की समस्या तेजी से बढ़ रही है, सही समय पर इसका इलाज न होने पर यह धीरे-धीरे फोबिया में बदल जाता है घबराहट और बेचैनी की समस्या आज एक आम समस्या हो गई है. यह एक ऐसा विकार अथवा परेशानी है जिसमें व्यक्ति को विशेष वस्तुओं, परिस्थितियों या क्रियाओं से डर लगने लगता है। अर्थात उनकी उपस्थिति में घबराहट होती है यह एक प्रकार की चिन्ता की बीमारी है।

घबराहट के लक्षण


दिल की धड़कन का बढ़ जाना- घबराहट या पेनिक डिसऑर्डर में सामान्यतः व्यक्ति की दिल की धड़कन बढ़ने लगती है व्यक्ति को बहुत घबराहट होने लगती है उसके हाथ पैरो में कम्पन होने लगती है.

एंग्जाइटी के लिए घरेलू उपचार

क्‍या आपका दिल छोटी-छोटी बातों में घबराने लगता है? अचानक से मन बेचैन हो उठता है और दिल की धड़कनें तेज हो जाती हैं? उस वक्‍त समझ नहीं आता कि क्‍या करें? ऐसे में मन को शांति नहीं मिलती? यदि ऐसा है तो आप घबराहट यानी एंग्‍जाइटी डिसऑर्डर के शिकार हैं। यह एक प्रकार का मानसिक विकार है। मेडिकल भाषा में एंग्जाइटी डिस्‍ऑर्डर को स्नायुतंत्र पर अधिक दबाव पड़ना भी कहते हैं। इसके रोगियों की संख्‍या बढ़ रही है, समय पर इस समस्‍या का इलाज न होने पर यह धीरे-धीरे फोबिया में बदल जाता है। हालांकि घबराहट के दौरे को नियंत्रित करने के कई उपचार मौजूद हैं जैसे-दवाईयां, साइकोथैरेपी आदि। लेकिन दवाओं का सेवन आपके लिए एक नशे की लत की तरह हो सकता है। इसलिए आपको प्राकृतिक विकल्‍पों को चुनना चाहिए। आइए मन को शांत करने के ऐसे ही कुछ सुरक्षित और प्राकृतिक विकल्‍पों के बारे में जानते हैं।




ग्रीन टी


ग्रीन टी व्‍यापक रूप से एंटीऑक्‍सीडेंट गुणों और स्‍वास्‍थ्‍य लाभों के कारण जानी जाती है। एल-थिएनाइन ग्रीन टी में एक एमिनो एसिड है। शोधों से पता चला है कि एल-थिएनाइन बढ़ी हृदय गति और रक्‍तचाप पर अंकुश लगाने में मदद करता है, और कुछ मानव अध्‍ययन के अनुसार, यह घबराहट को कम करने में भी आपकी मदद करता है। एक अध्‍ययन के अनुसार, 200 मिलीग्राम एल-थिएनाइन लेने से परीक्षण के दौरान चिंता की आंशका वाले विषय में छात्रों ने बहुत ही शांत और अधिक ध्‍यान केंद्रित कर परीक्षण दिया।

जिंको बिलोबा

इस जड़ी-बूटी का इस्‍तेमाल अक्‍सर स्‍मृति विकार औी ऐसी समस्‍याओं के लिए किया जाता है जो मस्तिष्‍क में रक्‍त के प्रवाह को कम कर देती है जैसे स्‍मृति हानि, एकाग्रता की कमी और मूड में गड़बड़ी। जिंको बिलोबा दुनिया में सबसे लंबे समय तक रहने वाले प्रजातियों के पेड़ों में से एक है। यह जड़ी बूटी पूरी तरह से सुरक्षित है और सदियों से इसका इस्तेमाल किया जा रहा है। यह कम से कम 250 लाख साल पुरानी जड़ी-बूटी है।

ओमेगा-3 फैटी एसिड

ओमेगा-3 फैटी एसिड एंग्जाइटी के लक्षणों को कम करने और शरीर में तनाव केमिकल के स्‍तर जैसे एड्रेनालाईन और कोर्टिसोल को कम कर मूड को अच्‍छा करने में मदद करता है। फैटी फिश जैसे ट्यूना और सालमन, अखरोट और अलसी के बीज ओमेगा-3 फैटी एसिड का बहुत अच्‍छा स्रोत है। एक इजरायली अध्‍ययन के दौरान जिन छात्रों को फिश ऑयल सप्‍लीमेंट दिये गये उनके खाने और सोने की आदतों, कोर्टिसोल का स्तर, और मानसिक स्‍तर के द्वारा मापने पर एंग्‍जाइटी कम देखने को मिली।

तनाव को कम करे –
घबराहट से बचने के लिए तनाव को कम करे क्योकि आप टेंशन में होंगे तो आपको निश्चित ही घबराहट होगी.

योग व सैर भी है फायदेमंद – 

सुबह की ताजी हवा में घूमने और योग करने से तनाव भी कम होगा और स्फूर्ति भी बढ़ेगी और इससे आपकी घबराहट भी कम होगी.

लैवेंडर

यह लोकप्रिय जड़ी-बूटी और आवश्‍यक तेल अपने शांत प्रभाव के कारण जानी जाती है। अध्‍ययन बताते हैं कि इसकी खुशबू हृदय गति और रक्‍तचाप को कम करने में मदद करती है और यह भावनात्‍मक एंटी-इंफ्लेमेंटरी के रूप में काम करता है। एक अध्‍ययन के अनुसार, यूनानी दंत रोगियों को तब कम घबराहट महसूस होती है जब उनका प्रतीक्षालय लैवेंडर के तेल के साथ सुगंधित किया जाता है। एक और जर्मन अध्‍ययन के अनुसार, विशेष रूप से तैयार लैवेंडर गोली सामान्यकृत चिंता विकार (जीएडी) से पीड़ि‍त लोगों में चिंता के लक्षणों को प्रभावी ढंग से कम करने में मदद करती है।

गहरी साँसे ले –

जब कभी भी आपको घबराहट होने लगे तो आप लम्बी और गहरी साँसे ले ये आपकी घबराहट को कम करने में आपकी मदद करेगी.

नींबू बाम

इस जड़ी बूटी का इस्‍तेमाल तनाव और चिंता को कम करने और अनिद्रा को दूर करने के लिए मध्य युग के किया जा रहा है। नींबू बाम से बनी चाय आराम तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित करती है। नींबू बाम आपको चाय, कैप्‍सूल या अन्‍य शांत जड़ी बूटियों के साथ संयुक्‍त करके मिल सकती है।




ठंडा पानी पीये –


घबराहट को कम करने के लिए ठंडा पानी पीना बहुत ही अच्छा उपाय है ठंडा पानी आपके नर्वस सिस्टम को मैनेज करता है.


भीड़- भाड़ वाली जगह से भय –

जब किसी व्यक्ति को घबराहट की समस्या होती है तो अक्सर वह भीड़ भाड़ वाले स्थान पर जाने से बचता है भीड़ से उसे भय होने लगता है.

उपचार –

ऐसे रोगी को भीड़ वाले स्थानों पर जाने से बचना चाहिए क्योकि भीड़ देखकर ऐसे व्यक्ति को और अधिक घबराहट होने लगती है.



एक टिप्पणी भेजें